Exams to Study Abroad – विदेश में पढाई के लिए जरुरी एग्जामस

6 Min. Read

Exams to Study Abroad in Hindi. यदि आप विदेश में पढाई करने की सोच रहें है तो आपको कुछ परीक्षाएँ जैसे IELTS, TOFEL आदि के बारे में जानकारी होनी चाहिये। यह परीक्षाएँ मुख्य रूप से आपके इंग्लिश नॉलेज के परख के लिए ली जाती है। इसके आलावा कुछ टेस्ट अलग-अलग फ़ील्ड्स में आपके ज्ञान की परख के लिए भी लिए जाते है। लगभग सभी देशों की यूनिवर्सिटीज, जहां आम बोलचाल की भाषा एवं ऑफिस लैंग्वेज इंग्लिश है, इन एग्जामस को अनिवार्य किया हुआ है। इस पोस्ट में आपको सभी एग्जामस के बारे में संक्षेप में बताऊंगा एवं आगे की पोस्ट्स में प्रत्येक एग्जाम के बारे में विस्तार से बताऊंगा।

List of Exams to Study Abroad – विदेश में पढाई करने के लिए जरुरी एग्जामस की सूची

  1. इंटरनेशनल इंग्लिश लैंग्वेज टेस्टिंग सिस्टम (आईलेटस ) – IELTS.
  2. टेस्ट ऑफ़ इंग्लिश लैंग्वेज एज ए फॉरेन लैंग्वेज (टॉफेल) – TOEFL.
  3. टेस्ट ऑफ़ रिटन इंग्लिश (टी.डब्ल्यु.ई.) – TWE.
  4. टेस्ट ऑफ़ स्पोकन इंग्लिश (टी.एस.ई.) – TSE.
  5. ग्रेजुएट मैनेजमेंट एडमिशन टेस्ट (जी.एम.ए.टी.) – GMAT.
  6. स्कोलिस्ट एप्टीट्यूड टेस्ट (एस.ए.टी.) – SAT
  7. ग्रेजुएशनल मैनेजमेंट एडमिशन टेस्ट (जी.अस.ए. टी.) – GSAT.
  8. ग्रेजुएट रिकॉर्ड एग्जामिनेशन (जी.आर.ई.) – GRE.
  9. डेंटल एडमिशन टेस्ट (डी.ए.टी.) – DAT.
  10. लॉ स्कूल ऑफ़ एडमिशन टेस्ट (एल. एस.ए.टी.) – LSAT.

1. इंटरनेशनल इंग्लिश लैंग्वेज टेस्टिंग सिस्टम (आईलेटस ) – IELTS.

ILETS यानि की International English Language Testing System.यदि आप विदेश जैसे की ऑस्ट्रेलिया, कनाडा, आयरलैंड या न्यूज़ीलैंड आदि में work या study करने के लिए जाना चाहते है तो आपके पास IELTS EXAM में अच्छा स्कोर होना जरुरी है।इसके आलावा कुछ देश जहाँ आम बोलचाल की भाषा एवं ऑफिस लैंग्वेज इंग्लिश है तो वो देश भी IELTS EXAM में अच्छे स्कोर की मांग करते है। यह टेस्ट आपके इंग्लिश ज्ञान की परख करता है। इस एग्जाम में कोई पास या फ़ैल नहीं होता है बल्कि आपको 1(नॉन यूजर )से 9(एक्सपर्ट यूजर) तक बैंड मिलते है। IELTS Exam के स्कोर की वैलिडिटी 2 साल की होती है। ज्यादातर देश एवं यूनिवर्सिटीज 7 या 8 के बैंड स्कोर की मांग करती है।

Know more about IELTS here.

2. टेस्ट ऑफ़ इंग्लिश एज ए फॉरेन लैंग्वेज (टॉफेल) – TOEFL

TOFEL यानि की Test of English as a Foreign Language.यह टेस्ट अमेरिका बेस्ड एजुकेशनल टेस्टिंग सर्विस आयोजित करवाती है।इसके साथ यह आपको रिपोर्ट कार्ड भी issue करती है एवं रिपोर्ट कार्ड संबंधित इंस्टीटूट्स को भेजती है। यदि आप विदेश जैसे की अमेरिका, कनाडा आदि में स्टडी के लिए जाना चाहते है तो आपके पास टॉफेल में अच्छा स्कोर होना चाहिए। IELTS की तरह यह टेस्ट भी आपके इंग्लिश नॉलेज की परख करता है। इस टेस्ट में आपको 0 से 120 तक पॉइंट्स मिलते है। 60 से लेकर 110 तक पॉइंट्स को अच्छा स्कोर माना जाता है। इस टेस्ट की भी वैलिडिटी 2 वर्ष की होती है। यह टेस्ट दो प्रकार से आयोजित होता है। पहला इंटरनेट बेस्ड टेस्ट (IBT) एवं दूसरा पेपर बेस्ड टेस्ट (PBT) होता है। आप दोनों में से कोई सा भी टेस्ट दे सकते है। टॉफेल के लिए ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन करवाना सबसे आसान रास्ता है।

3. टेस्ट ऑफ़ रिटन इंग्लिश (टी.डब्ल्यु.ई.) – TWE.

TWE यानि की Test of Written English. यह टेस्ट टॉफेल टेस्ट का ही Essay पार्ट है। इस एग्जाम में आपके इंग्लिश लिखने के ज्ञान की परख होती है। इसमें आपको किसी दिए गए टॉपिक पर इंग्लिश लैंग्वेज में Essay लिखना होता है। प्रत्येक Essay इंग्लिश लैंग्वेज के Syntactic and Lexical आधार पर चेक होता है। इसके आलावा Essay से संबंधित आपके द्वारा आईडिया को develop, organize एंड express करने की क्षमता की भी परख की जाती है।

4.टेस्ट ऑफ़ स्पोकन इंग्लिश (टी.एस.ई.) – TSE.(क्लोज्ड)

TSE यानि की Test of Spoken English. यह एक मौखिक(Oral) टेस्ट था जो की आपके इंग्लिश बोलने की क्षमता की परख करता था। यह टेस्ट भी अमेरिका बेस्ड एजुकेशनल टेस्टिंग सर्विस आयोजित करवाती थी। मार्च 2010 के बाद इस टेस्ट को ख़त्म कर दिया गया। एवं इस टेस्ट की जगह TOFEL iBT के स्पीकिंग पार्ट ने ले ली।

5. ग्रेजुएट मैनेजमेंट एडमिशन टेस्ट (जी.एम.ए.टी.) – GMAT.

GMAT यानि की Graduate Management Admission Test. यदि आप विदेश में मैनेजमेंट जैसे की MBA, Master of Accountancy and Master of Finance आदि की पढाई करना चाहते है तो आपको GMAT एग्जाम देना होगा। यह एग्जाम ग्रेजुएट मैनेजमेंट एडमिशन कौंसिल(GMAC) द्वारा करवाया जाता है। दुनियाभर में लगभग 7000 प्रोग्राम्स एवं 2300 से अधिक बिज़नेस स्कूल्स GMAT के स्कोर के आधार पर एडमिशन देते है। यह टेस्ट एक साल में पांच बार दिया जा सकता है। दो टेस्टो के मध्य कम से कम 16 दिन का अंतराल होना जरुरी है। इस टेस्ट के लिए mba.com पर रजिस्टर किया जा सकता है। जीमैट की फीस 250 डॉलर है।

Exams to Study Abroad In Hindi
Exams to Study Abroad

6. स्कॉलैस्टिक असेसमेंट टेस्ट (एस.ए.टी.) – SAT

SAT यानि की Scholastic Assessment Test. यदि आप अमेरिका, कनाडा एवं अन्य देशों में ग्रेजुएशन लेवल की पढाई करना चाहते हो तो आपको ये टेस्ट देना होगा।यह टेस्ट अमेरिका की नॉन प्रॉफिट आर्गेनाइजेशन कॉलेज बोर्ड के स्वामित्व में है। परन्तु यह टेस्ट एजुकेशनल टेस्टिंग सर्विस आयोजित करती है। इस टेस्ट में दो सेक्शन होते है। पहला मैथ्स एवं दूसरा वर्बल एंड रिटन स्किलस का। इसमें आपका स्कोर 400 से 1600 पॉइंट तक हो सकता है। भारत में इस टेस्ट की फीस लगभग $49 है।

7. ग्रेजुएट रिकॉर्ड एग्जामिनेशन (जी.आर.ई.) – GRE.

GRE यानि की Graduate Record Examination.यदि आप विदेश जैसे अमेरिका, कनाडा एवं अन्य देशो में ग्रेजुएट या बिज़नेस स्कूलों में पढाई करना चाहते है तो आपको GRE स्कोर की आवश्यकता होगी। GRE एक इंटरनेशनल टेस्ट है जो की अमेरिका बेस्ड एजुकेशनल टेस्टिंग सर्विसेज(ETS) द्वारा करवाया जाता है। इस टेस्ट में आपके reasoning, verbal एवं analytical writing skills में दक्षता की परख होती है। इसके आलावा GRE सब्जेक्ट टेस्ट भी होता है जिसमे आपकी किसी विषय विशेष में योग्यता की परख की जाती है। GRE एग्जाम एक साल में पांच बार दिया जा सकता है परन्तु दो प्रयासों के बीच कम से कम 21 दिनों का अंतराल होना चाहिए। GRE के स्कोर कार्ड की वैधता पांच साल की होती है।

8. लॉ स्कूल एडमिशन टेस्ट (एल. एस.ए.टी.) – LSAT.

LSAT यानि की Law School Admission Test. यदि आप विदेश जैसे की अमेरिका, कनाडा एवं अन्य देशों में law की पढाई करना चाहते है तो आपको LSAT स्कोर की आवश्यकता होगी। LSAT एक इंटरनेशनल टेस्ट है जो की अमेरिका बेस्ड लॉ स्कूल एडमिशन कौंसिल द्वारा आयोजित करवाया जाता है। भारत के 50+ लॉ कॉलेजेज LSAT के स्कोर के आधार पर एडमिशन देते है। LSAT एंट्रेंस एग्जाम में आपकी Logical Reasoning, Reading Comprehension एवं Analytical Reasoning से संबंधित दक्षता का आकलन किया जाता है। यह टेस्ट पेपर-पेंसिल एवं कम्प्यूटर बेस्ड दोनों फॉर्मेट में होता है। इस एग्जाम की ऑफिसियल तैयारी खान अकेडमी पर की जा सकती है।

9. डेंटल एडमिशन टेस्ट (डी.ए.टी.) – DAT.

DAT यानि की Dental Admission Test. यदि आप विदेश जैसे की अमेरिका एवं कनाडा में डेंटल की पढाई करना चाहते है तो आपको DAT स्कोर की आवश्यकता होगी। DAT टेस्ट अमेरिकन डेंटल एसोसिएशन द्वारा आयोजित करवाया जाता है। यह टेस्ट अमेरिका एवं कनाडा में प्रोमेट्रिक टेस्ट सेंटर पर ही आयोजित होता है। DAT एक कंप्यूटर बेस्ड टेस्ट है। इसमें कुल चार सेक्शन – Survey of Natural Science, Perceptual Ability,Reading Comprehension and Quantitative Reasoning होते है। इस टेस्ट के आधार पर अमेरिका के लगभग 65 कॉलेजों एवं कनाडा के लगभग 10 कॉलेजो में एडमिशन मिलता है। यह टेस्ट साल में कभी भी दिया जा सकता है।

In conclusion यदि आपको Exams to Study Abroad in Hindi से संबंधित यह पोस्ट अच्छी लगी तो इसे अपने दोस्तों के साथ भी शेयर कीजिये। यदि आप personal  career counselling चाहते है तो मुझसे संपर्क कर सकते है।

Meanwhile आपके सुझाव और शिकायतें आमंत्रित है। कृपया निचे दिए गए कमेंट बॉक्स का उपयोग कर मुझसे संपर्क करें।

करियर गाइडेंस से संबंधित नवीन जानकारी अपने ईमेल बॉक्स में प्राप्त करने के लिए हमारे न्यूज़लेटर को सब्सक्राइब करे।

Leave a Comment